क्या आप समझते हैं कि जनता को सरकार को संयुक्त हस्ताक्षर अभियान के जरिए,आदेश देने का अधिकार है?

Monday, July 19, 2010

सभी ब्लोगरों से आग्रह अपने एक दिन कि कमाई इस देशभक्त आजाद पुलिस को दान में जरूर दें .....

हमने WWW.HPRDINDIA.ORG के तरफ से आजाद पुलिस उर्फ़ ब्रह्मपाल प्रजापति के देशभक्ति से भरे सामाजिक कार्यो कि जाँच करने के बाद उनके सम्मान में एक सम्मान पत्र जारी किया और 500/रूपये का छोटा सा नगद इनाम भी उन्हें दिया | पहली बार किसी सम्मान व इंसानी सम्बेदनाओं का इनाम पाकर ब्रह्मपाल प्रजापति को खुस देखकर मैं और पदमसिंह जी दोनों को लगा कि हमलोगों का प्रयास सफल हो गया | आप सभी से भी आग्रह है कि आपके शहर,गांव,मुहहले में भी अगर इस तरह का कोई सच्चा ब्रह्मपाल प्रजापति रहता हो तो उसकी सहायता कर उसके जज्बों को बढाने का प्रयास जरूर करें | आज ऐसे लोगों कि देश व समाज को बहुत जरूरत है |

एक पंखा या टेबल फेन भी नहीं है इस सच्चे इन्सान के पास और हमारे भ्रष्ट नेता नोट खा-खा कर अय्यासी कर रहें हैं  | इस चित्र में मैं और पदम् सिंह जी पसीने से भीगे हुए बीच में आजाद पुलिस के पीठ पर हाथ रखकर उनका हौसला बढ़ाने का प्रयास कर रहें हैं | मैंने और पदम् सिंह जी ने एक घंटा इस नेक इन्सान के साथ इनके दुःख भरे आशियाने में इनके दुखों को जानने में बिताया | कास हमारे देश के नौटंकी बाज भ्रष्ट नेता ऐसे व्यक्ति कि कुछ सुध ले पाते और इनके दुखों को महसूस कर पाते |
गरीबों के उत्थान के अड्बों कि योजनाओं और UP में गरीबों कि सरकार का डंका पीटने वाली मायावती जी कि सभी कल्याणकारी दाबों का पोल खोलती हुई मूलभूत जरूरत के सामान के बिना आजाद पुलिस व उसका परिवार जीवन गुजार रहा है ,जिसे हमसब के सहायता कि सख्त जरूरत है | सत्य व देशभक्ति का आज देश में क्या हालत है यह इस आजाद पुलिस को देखकर सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है |

मैंने आजाद पुलिस के दोस्त मनोज पाल से आजाद पुलिस के संघर्षों कि दास्तान कि गहराइयों को जानने का प्रयास किया |


आजाद पुलिस अपनी लिखी किताब हमें दिखाते हुए | आजाद पुलिस के सारे कागजात व सच्चे कारनामों के सबूतों का प्रमाण आर्थिक तंगी के कारण एक अदद फाइल का राह देख रही है | वाह रे आजाद इंडिया और उसका असल आजाद पुलिस |
आज मैं ऐसे व्यक्ति से मिला जिसका जीवन एक संघर्ष है  महात्मा गाँधी व सुभाषचन्द्र  बोस  कि  तरह और वह संघर्ष सिर्फ और सिर्फ इस देश के भ्रष्ट और निकम्मी व्यवस्था जो आज अंग्रेजों के गुलामी भरे शासन से भी बदतर है के खिलाप है | इस व्यक्ति का नाम है ब्रह्मपाल प्रजापति उर्फ़ आजाद पुलिस जो नंदग्राम गाजियाबाद उत्तरप्रदेश में रहता है | सही मायने में यह एक सच्चा पुलिस है जो हर अन्याय के खिलाप आवाज उठा रहा है जिसके लिए उसे सम्मान कि जगह भ्रष्ट व्यवस्था से अपमान और डंडे कि मार भी मिलता है और सत्य बोलने व सत्य के लिए लड़ने वालों को कैसे जेल में डाल दिया जाता है वह तो कोई आजाद पुलिस से बात कर महसूस कर सकता है | इस व्यक्ति के परिवार में एक पत्नी और दो बच्चे(लड़का) हैं | इस व्यक्ति का जीवन बहुत ही कष्टमय बीत रहा है और इसके पास इस गर्मी में एक पंखा तक नहीं है | मैंने जब इसके जुवान से यह सुना कि "मुझे अभी तक किसी ने साथ नहीं दिया और ना ही सहायता ही दी है" तो मेरी आँखें डबडबा गयी और मैं यह पोस्ट उसी सम्बेदना में लिख रहा हूँ | आपलोगों से आग्रह है कि आपलोग अपने या अपने बच्चों पर तो बहुत खर्च करते है लेकिन किसी सच्चे व देश भक्त इन्सान कि सहायता पर भी आपलोग कुछ खर्च करें | आप इस सच्चे इन्सान कि यथासंभव मदद जरूर करें | आप इस व्यक्ति को मदद के लिए इस व्यक्ति के मोबाईल -09654829179 पर इस व्यक्ति से संपर्क कर सकते हैं या एक नेक दिल ब्लोगर श्री पदम् सिंह जी से उनके फोन पर -09868962005 तथा 09716973262 पर संपर्क कर आजाद पुलिस को सहायता कि राशी कैसे और कहाँ पहुंचानी है के लिए जानकारी हासिल कर सकते हैं |इस महान ब्लोगर ने ही इस महान देशभक्त,इमानदार व सच्चे समाजसेवक के बारे में अपने ब्लॉग पद्मावली पर लिखा था जिसे पढ़कर ही मैं इस व्यक्ति से मिलने गया था | इस काम में हमारी अभूतपूर्व सहायता श्री पदम् सिंह जी ने किया जिनके हम हार्दिक आभारी हैं |

मैं पदम् सिंह जी के घर भी गया जहाँ उनका अपनापन व सत्कार इंसानी सम्बेदनाओं से भरा था | पदम् सिंह जी के बच्चों और उनके पत्नी का व्यवहार भी किसी भी इन्सान को बेहद सम्मान देने वाला लगा | कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि पदम् सिंह जी का परिवार इंसानी सम्बेदनाओं से भरा परिवार है और हर जरूरतमंद इन्सान कि यथासंभव मदद भी कर रहा है | ऐसे परिवार का मैं हार्दिक आभार प्रगट करता हूँ |

आप इस देशभक्त आजाद पुलिस उर्फ़ ब्रह्मपाल प्रजापति कि सहायता में जो भी संभव हो स्वेक्षिक राशी ICICI बैंक के खाता संख्या 003101572405 में अनुदान कर सकते हैं अनुदान करने के बाद azadpolice@gmail.com पर सूचित अवश्य कर दें |
अंत में आप लोगों से इंसानियत के नाते एकबार फिर आग्रह करता हूँ कि ब्रह्मपाल प्रजापति उर्फ़ आजाद पुलिस कि यथासंभव सहायता जरूर करें ,इससे आपके धन सम्पदा में कमी नहीं बल्कि बृद्धि होगी .....

13 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. @जय कुमार झा जी

    सबसे पहले तो आपको और पद्मा सिंह जी को नमन करना चाहूँगा आप दोनों की इस संवेदनशीलता के लिए जो की हमारी बेशर्म सरकारों को दिखानी चाहिए थी

    ब्रह्मपाल जी उर्फ़ आज़ाद Police के बारे में जितना भी कहा जाए हमेशा कम ही रहेगा , मैंने भी इनके बारे में पद्मा सिंह जी के ब्लॉग पद्मावली पर थोडा बहुत पढ़ा था, पढ़कर बहुत दुःख हुआ की ये हश्र होता है समाज के लिए सच्चाई और ईमानदारी से अपने कर्तव्य निभाने वाले का,सच में हमें इस भ्रष्ट व्यवस्था और सिस्टम को बदलना होगा ,देश की हर समस्या का हल निकालना ही होगा

    मैं इनकी सेवा में 500 रुपए का छोटा सा दान देना चाहूँगा और इस ब्लॉग के सभी members ,followers और पाठकों से भी प्रार्थना करता हूँ की वे भी अपने-2 सामर्थ्य के अनुसार इनकी मदद को आगे आयें और साबित करें की अगर कोई व्यक्ति अपने बारे में ना सोचकर हमारे लिए कार्य करता है और इस भ्रष्ट सिस्टम से लोहा मोल लेता है तो हम भी उसकी मदद करने को हमेशा तैयार हैं

    जय कुमार जी आपका एक बार फिर से आभार इस ईमानदार व्यक्ति की वर्तमान स्तिथि को इस ब्लॉग के ज़रिये हम सभी तक पहुंचाने के लिए

    महक

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. ब्रह्मपाल प्रजापति जी के जीवन से जुड़े तथ्यों से अवगत कराने का बेहद आभार. उनके बारे में जान कर बेहद दुःख हो रहा है, जो भी हो सकेगा जरुर करते हैं.
    regards

    ReplyDelete
  5. अच्छा आग्रह...सार्थक!

    ReplyDelete
  6. @honesty project democracy
    क्षमा कीजियेगा लिखने में भूल हुई थी , सुधर ली है.
    regards

    ReplyDelete
  7. constructive work.

    हुज़ूर मेरा बेटा पढ़ने में कमज़ोर होने के कारण हाई स्कूल में फ़ेल हो गया है। यदि आप मुझे कुछ देना ही चाहते हैं तो मेरे बेटे को कलक्टर बना दीजिए। और इस प्रकार से उस बावर्ची का हाई स्कूल फ़ेल पुत्र कलक्टर बना दिया गया। ऐसे विशिष्ट पद उपरोक्त पाविारिक पृष्ठभूमि व शैक्षिक योग्यता वाले व्यक्ति के को सौंपा जाना एक अजूबा था और अजूबा ही साबित भी हुआ क्योंकि उसने अपने स्तर के अनुसार ऐसे अनाप शनाप काम किये कि जल्दी ही उसके ख़िलाफ़ शिकायतों की एक पूरी फ़ाइल तैयार हो गई परन्तु उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई करने में कोई भी सक्षम नहीं था। अन्त में उसके ख़िलाफ़ तैयार की गई फ़ाइल को लार्ड कर्ज़न के अवलोकनार्थ इस टिप्पणी के साथ इंग्लैण्ड भेजा गया कि कृपया अपने इस गधे के कारनामों पर विचार करके निर्देश देने का कष्ट करें।
    जवाब में लार्ड कर्ज़न ने लिखा कि भारत में बहुत सारे गधे पल रहे हैं उनके साथ यदि मेरा भी एक गधा परवरिश पाता रहेगा तो देश का बहुत ज़्यादा अहित न होगा।

    http://haqnama.blogspot.com/2010/07/by-sharif-khan.html

    ReplyDelete
  8. हिंदी ब्लॉग लेखकों के लिए खुशखबरी -


    "हमारीवाणी.कॉम" का घूँघट उठ चूका है और इसके साथ ही अस्थाई feed cluster संकलक को बंद कर दिया गया है. हमारीवाणी.कॉम पर कुछ तकनीकी कार्य अभी भी चल रहे हैं, इसलिए अभी इसके पूरे फीचर्स उपलब्ध नहीं है, आशा है यह भी जल्द पूरे कर लिए जाएँगे.

    पिछले 10-12 दिनों से जिन लोगो की ID बनाई गई थी वह अपनी प्रोफाइल में लोगिन कर के संशोधन कर सकते हैं. कुछ प्रोफाइल के फोटो हमारीवाणी टीम ने अपलोड.......

    अधिक पढने के लिए चटका (click) लगाएं




    हमारीवाणी.कॉम

    ReplyDelete
  9. आपकी आज की यह पोस्ट बहुत अच्छी लगी...

    ReplyDelete
  10. आपकी आज की पोस्ट विचार्नीये है. जो संभव हो सकेगा जरुर करना चाहूंगी. आभार.

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सोचनिया बाते कही आप ने. धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. हमने तो अपनी और से एक छोटी सी सहायता राशी भेजदी है

    ReplyDelete