क्या आप समझते हैं कि जनता को सरकार को संयुक्त हस्ताक्षर अभियान के जरिए,आदेश देने का अधिकार है?

Friday, May 14, 2010

ब्रेकिंग न्यूज़ , बेहद शर्मनाक है ,दिल्ली कि कानून व्यवस्था -----?

आज शाम शांति अपार्टमेन्ट ,सेक्टर A -5 ,POCKET -13 ,नरेला के फ्लेट नंबर -117 में कुछ बदमाश हमलावरों ने श्री V.R. VAISH के घर में घुस कर ,उनके ऊपर हमला कर उनको बुरी तरह लहूलुहान कर दिया / श्री VAISH को पीतमपुरा के MAX अस्पताल के इमरजेंसी में भर्ती कराया गया है / अपुष्ट ख़बरों के अनुसार हमलावर चार थे /श्री VAISH काफी बृद्ध हैं और उनको कई लोग पहले से परेशान कर रहे थे ,जिसकी शिकायत उन्होंने नरेला थाने में पहले कई बार कि थी ,लेकिन पुलिस का लापरवाह और निक्कापन से भरा रवैया ,आज उनके इस हालत का जिम्मेवार है / अन्य ब्लोगर बंधुओं तथा प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मिडिया वालों के लिए हम उनका फोन नंबर यहाँ दे रहें  हैं  -09811163892 और 011 - 27787615 / हम कल जब श्री VAISH कि हालत में सुधार होगा तब इस घटना पर विस्तार से आप लोगों को तथ्यों पे आधारित जानकारी दुबारा देने कि कोशिस करेंगे / तब तक तो इतना ही कह सकते हैं कि " बेहद शर्मनाक है, दिल्ली कि कानून व्यवस्था"

10 comments:

  1. ... स्वास्थ्य लाभ के लिए प्रार्थना .... बदमाशों को दण्ड!!

    ReplyDelete
  2. लुच्चों की भरमार हमारी दिल्ली में...
    सारे रंगे सियार हमारी दिल्ली में....

    वैश्य जी के लिये शुभकामनाएं.....

    ReplyDelete
  3. कानून क्या क्या करेगा. इतनी उम्मीद कानून से रखनी ही नहीं चाहिए. हर किसी के घर की सुरक्षा तो नहीं की जा सकती. जरुरत कानून में सुधार की नही हर किसी के अपने अपने स्तर पर सुधार की है.

    ReplyDelete
  4. pathetic delhi Police can not do anythingh

    ReplyDelete
  5. http://madhavrai.blogspot.com/

    http://qsba.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. बुजुर्ग लोग भी सुरक्षित नहीं... महानगर में त ई सब घटना आम हो गया है..

    ReplyDelete
  7. लानत है ऎसी पुलिस पर जो बुजुर्गो की रक्षा भी नही कर सकती

    ReplyDelete
  8. महोदय दिल्ली ही नहीं सारा भारत ही ऎसे हालात से गुजर रहा है। ईश्वर जानें क्या होगा?

    ReplyDelete
  9. पूरे देश में स्थिति बहुत खराब है. कुच्छ च्छुत-पुट परिवर्तन पर्याप्त नहीं हैं, आमूल-चूल परिवर्तनों के लिए -
    http://bhaarat-bhavishya-chintan.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. क्यों केवल दिल्ली का ही नाम लें पूरे देश का यही हाल है नेता मस्त जनता पस्त

    ReplyDelete