क्या आप समझते हैं कि जनता को सरकार को संयुक्त हस्ताक्षर अभियान के जरिए,आदेश देने का अधिकार है?

Tuesday, April 13, 2010

किसी देश का स्वेत रक्त होता है उस देश कि गुप्तचर या खुफिया संस्था -------------


     
जिस तरह मानव शरीर को किसी भी रोग से बचाने के लिए ह़र मानव शरीर में दो तरह के रक्त (RBC)यानि लाल रक्त  कण  (WBC) यानि स्वेत रक्त कण होता है /इस में से (WBC)यानि स्वेत रक्त का काम किसी भी रोग से पूरे शरीर कि रक्षा करना होता है और यह पूरी तरह मानव शरीर के दिमाग द्वारा नियंत्रित होता है और जब यह कमजोर या अप्रभावी हो जाता है तो मानव शरीर कई रोगों के चपेट में आ जाता है / ठीक उसी तरह किसी देश का स्वेत रक्त होता है उस देश कि गुप्तचर या खुफिया संस्था / क्या आप जानते हैं अपने देश के स्वेत रक्त यानि गुप्तचर संस्थाओं के नाम ? लीजिये हम आपको बता देते हैं भारत जैसे लोकतंत्र शरीर के स्वेत रक्त कण का नाम (१)RAW रिसर्च एंड अनल्यसिस विंग (२)IB इंटेलिजेंस ब्यूरो (३)DIA डिफेन्स इंटेलिजेंस एजेंसी  ये तिन हमारे देश के  मुख्य स्वेत रक्त कण हैं / इनकी सहायता के लिए और भी कई  सरकारी एजेंसियां हमारे देश में कार्यरत हैं / अब सवाल उठता है की अड्बों रुपया इन एजेंसियों के प्रोजेक्ट और इन में कार्यरत कर्मचारियों पड़ हर साल खर्च करने के बाबजूद हमारा देश कई गंभीर रोगों जैसे भ्रष्टाचार,कानून का खौफ का ना होना,भ्रष्ट लोगों का सांसद और मंत्री पद पड़ बैठ कर अपने रिश्तेदारों और चमचों को फायदा पहुँचाने के लिए देश कि आम जनता और देश को खुलेआम लूटना ,इत्यादि से क्यों पीड़ित है ? जवाब हैं इस देश के स्वेत रक्त कण का इस देश के दिमाग यानि आम जनता द्वारा नियंत्रित ना होकर जनता के सेवक यानि प्रधानमंत्री या PMO द्वारा पूरी तरह नियंत्रित होना / हमारे देश में ऐसे देशभक्त गुप्तचरों कि कमी नहीं जो देश को ह़र बीमारी से बचा सकता है,लेकिन जब ईमानदारी से कार्यकरने के बदले दुत्कार और चमचागिरी के बदले सम्मान मिले तो कैसे कैसे देशभक्त भी चुपचाप तमाशा देखने वाले बन जाते हैं / एक प्रधानमंत्री से आज के युग में यह आशा नहीं कि जा सकती हैं कि वह इन बेहद संबेद्न्शील एजेंसियों को देश हित के बजाय अपने या अपने दल के हितों कि रक्षा के लिए प्रयोग नहीं करेगा  ? ऐसे ही कारणों के वजह से CBI को कांग्रेस ब्यूरो ऑफ़ इन्भेसटीगेसन कहा जाने लगा है जो पूरे देश के साथ-साथ इमानदार गुप्तचर या जाँच अधिकारियों के लिए शर्मनाक बात है और ऐसे वातावरण की वजह से हमारे देश का स्वेत रक्त कण दूषित हो रहा है,जिसे साफ करने की जरूरत है / इसे साफ करने का एक सबसे कारगर उपाय है कि देश में जनशिकायत मंत्रालय की स्थापना कर देश के सभी जाँच एजेंसियों को इस मंत्रालय के अधीन कर दिया जाय और यह मंत्रालय देश के राष्ट्रपति के अधीन काम करे और इस मंत्रालय के तिन कार्यकारी मंत्री हो (१)प्रधानमंत्री (२)सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश  और (३) देश के मुख्य सुचना आयुक्त / इसके साथ ही इस मंत्रालय के लिए हर छह माह में एक बार पूरे देश के जनता के सामने अपने कार्यों का लेखा जोखा प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मिडिया के जरिये रखना अनिवार्य कर दिया जाय / इस मंत्रालय में देश के किसी कोने से कोई भी व्यक्ति कभी भी देश के शेहत को ख़राब करने वालों के खिलाफ शिकायत कर सकता हो और इस मंत्रालय को भेजे जाने वाले शिकायत के लिए देश के ह़र डाकघर को यह निर्देश जारी किया जाय कि जनशिकायत मंत्रालय को भेजे जाने वाले ह़र पत्र को बेहद गोपनीय सरकारी डाक माना जाय और  बेहद गोपनीय तरीके से मंत्रालय तक पहुँचाया जाय और शिकायत भेजने वाले से कोई शुल्क ना लिया जाय /  जब ऐसा होगा तब सही मायने में देश के स्वेत रक्त कण का नियंत्रण देश के असल दिमाग के द्वारा होगा जिससे देश का स्वेत रक्त कण देश को गम्भीर बीमारी से बचाने का काम सही मायने में कर पायेगा और उसकी पहुँच देश के ह़र कोने में बीमारी के पैदा होने वाने मूल कारणों तक होगा /         

No comments:

Post a Comment