क्या आप समझते हैं कि जनता को सरकार को संयुक्त हस्ताक्षर अभियान के जरिए,आदेश देने का अधिकार है?

Sunday, April 18, 2010

सबसे खतरनाक वायरस-----

                   
          आपने कम्प्यूटर और इंटरनेट के वायरस और उससे निपटने तथा सुरक्षा के उपायों के बारे में सुना होगा / लेकिन आज यहाँ मैं आप लोगों को लोकतंत्र के सबसे खतरनाक  वायरस से मिलवाने और उससे निपटने के उपाय भी सुझाने जा रहा हूँ /
                  इस वायरस का नाम हैं -अवैध प्रतिनिधि या गैरकानूनी कार्य को अंजाम देने वाले कार्यकर्त्ता / ये ऐसा वायरस है जिसकी पहुंच किसी न किसी साईट के जरिये लोकतंत्र के ऊँचे से ऊँचे शिखर पर बैठे लोगों के व्यक्तिगत फाइल और ऑफिस के ह़र नेटवर्क से किसी न किसी डाटा कार्ड के माध्यम से जरूर होता है /
                    इसका IP address hai -bhrastachar.in और इसका html code hai-sarab'bideshi''sex>deshi bidesi->low&gt>bidesi>bold;low>bideshicoin;-indian -slow;//exp-usdollar.go-/tomy-ac.;swiss;bank//:>   आप भूलकर भी इस लोकतंत्र के वायरस के html कोड को अपने घर ,शहर या जिले में आने नहीं दीजिएगा अन्यथा हमारे देश के लोकतंत्र कि तरह ही आपको असीमित क्षति पहुंचाकर not responding--- का सिग्नल लिखित में आपके पते के ऊपर भेजेगा / हमलोगों ने अपने आन्दोलन के जांबाज कार्यकर्ताओं के मेहनत और भगवान कि असीम दया से इस वायरस का सारा बायोडाटा हाशिल किया है ,और इमानदार न्यायिक और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मिलकर इसका कोई न कोई एंटी वायरस कि खोज के लिए देश भर के जनता से सहयोग मांग रहें है / हमलोग इस वायरस के चपेट में आये लोगों के पास भी जाकर उनको ज्यादा पॉवर का वेक्सिन का टिका लगाकर उनको इस वायरस से दूर रहने का सलाह देते है / लेकिन कहीं-कहीं हमें वेक्सिन का टिका लगाने में दिक्तों का भी सामना करना पड़ता है और हमारे कार्यकर्त्ता शहीद भी हो जातें हैं लेकिन शहीद करने वालों को हमलोग कानूनी कार्यवाही के जरिये सजा जरूर दिलाते हैं /
               इसका काम यानि क्षति करने का तरीका -यह देशी सत्ता के दलाल टायप और बिदेशी सत्ता के मजबूत ड्रेकुला टायप लोगों के जरिये लोकतंत्र और लोकतंत्र कि रक्षा में लगे सच्चे ,इमानदार ,देशभक्त समाजसेवकों को परेशान करने और उन्हें भ्रष्टाचार में शामिल होने के लिए पहले मजबूर करते हैं और नहीं शामिल होने पर जान से मारने कि धमकी भी देतें हैं / कभी-कभी हिंसक हमला भी करवाते हैं / आजकल ये वायरस हमारे RTI कार्यकर्ताओं को देश भर में निशाना बना रहें हैं /
                                                    इनका पॉवर सप्लाई स्त्रोत - इस वायरस को शक्ति दो नंबर के पैसे से मिलता है ,जो इसे इनके ह़र क्षेत्र के लिंक जैसे उद्योगपतियों को ज़मीन मुहैया कराने के बदले ,छोटे से बड़े उद्योगपतियों को बिजली कनेक्सन ,पोलुसन प्रमाणपत्र जैसे और भी कई प्रमाणपत्रों के बदले,ह़र सरकारी विभाग के जरूरत के सामान के खरीद में ,लोकनिर्माण के ठेकों में तथा जनकल्याण के सभी निर्माण और फर्जी निर्माण से दलाली के जरिये ,इनको पूरे देश से अरबों रुपया मिलता है / लेकिन इनका सबसे बरा स्त्रोत है गरीबों के कल्याण कि सरकारी योजनाओं का पैसा जो इनको भ्रष्ट जनप्रतिनिधियों और भ्रष्ट IAS व IPS अधिकारियों के सहयोग और बंदरबांट से प्राप्त होता है / इस स्त्रोत के जरिये ये लोकतंत्र को दोहरी मार पहुँचाता है /
                   इस वायरस से देश का ह़र सरकारी महकमा पीड़ित है और अब तो इसने कलयुगी बाबाओं के साईट से खूबसूरत मॉडल टायप वीडियो का सहारा लेकर भ्रष्ट मंत्रियों को होटलों में बुलाकर उनके  जरिये लोकतंत्र पड़ हमला करना शुरू कर दिया है / इस वायरस के चपेट में कुछ भ्रष्ट मंत्री और अधिकारी इस तरह आ चुके हैं कि वे लोकतंत्र का साईट खोलने के बजाय होटलों में बैठकर इस वायरस के लिंक को बिदेशों में बैठे साईट से जोड़कर लोकतंत्र के रहे-सहे डाटा को भी नष्ट करने पे तुले हुए हैं /  हलांकि इसकी सूचना सुरक्षा चेतावनी के रूप में लोकतंत्र के बचे-खुचे चेतावनी तन्त्र द्वारा लोकतंत्र के मैन सर्भर तक पहुँचाने कि कोशिश कि जाती है ,लेकिन इस वायरस का प्रभाव इतना है कि मैन सर्भर को उचित कार्यवाही करने से भ्रमित कर देता है / अब तो आलम यह है कि लोकतंत्र का बचा-खुचा सुरक्षा तन्त्र भी कमजोर पड़ गया है और सुरक्षा चेतावनी भी भेजना बंद कर दिया है , जिसकी वजह से इस वायरस ने लोकतंत्र के सबसे मजबूत तन्त्र पत्रकारिता और उच्च मध्यम वर्गीय को पूरी तरह खत्म करने पर आमादा है ,गरीबों और निम्न मध्यम वर्गीय को तो ये वायरस कब का तबाह कर खत्म कर चुका है /
                               इसके  पहचान के बारे में चेतावनी - ये वायरस इस भारत के लोकतंत्र के ह़र विधानसभा और लोकसभा क्षेत्रों में अपनी पैठ बना चुका है / अनुमान के अनुसार एक विधान सभा क्षेत्र में इनकी संख्या कम से कम दो सौ से एक हजार है,और एक लोकसभा क्षेत्र में कम से कम एक हजार से दस हजार तक है / यह वायरस जिला केंद्र,ब्लोक ऑफिस ,जिला के ह़र बैंक ,ग्राम पंचायत ,स्कूल -कोलेज तथा जिले के माफियाओं के इर्द-गिर्द कमजोर और लाचार लोगों को अपना शिकार लगातार बनाकर पूरे लोकतंत्र को चौपट करने पर तुला है /
                            इसका एंटी वायरस हमलोग जल्द ही तैयार करने वाले है जिसकी सूचना जल्द ही किसी राष्ट्रिय TV न्यूज़ चेंनल पर रोज के आधे घंटे के कार्यक्रम के  प्रसारण के माध्यम से आपलोगों को मिलेगा /                            फ़िलहाल इस कार्यक्रम कि रुपरेखा और फंड कि व्यवस्था को पढने के लिए इस लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं / ये लिंक लोकतंत्र के खतरनाक वायरस से पूरी तरह सुरक्षित है   / http://hprdindia.org/anmol.html      

No comments:

Post a Comment